सच ही तो है।

जिनको खुद रत्तीभर की तमीझ नहीं वो अक्सर दूसरों को तमीझ सिखाने में लगते हे,पहले खुद तमीझ क्यों नहीं सीख लेते?

Comments

Post a Comment