ऐसा ये कलयुग है ।

प्यार से ज्यादा यहां पैसा जरूरी है
ये ऐसा कलयुग है।
जिन्दगीभर का दुख और पलभर की खुशी है
ऐसा ये कलयुग है।
त्यौहारोपर मिलनेमिलाने वाला नही बल्कि
 सिर्फ व्हाट्सएप पर msg भेजनेवाला,
ये कलयुग है।
बीवी बच्चो को टाइम देनेवाला नही,
ये तो बाहरी अफेयर करनेवाला कलयुग है।
ये दिल से रिश्ते निभानेवाला नही,
मतलब से रिश्ते रखनेवाला कलयुग है।
यहां अपने ही अपनो को पराया कर दे।
ऐसा पापी ये कलयुग है।

Comments