Quote

मेरी कलम के तीर तब ही चुभते है,
जब आँखो मे आँसू रहते है,
ना गिरते है ना संभलते है,
बस यूही चूप से रहते है ।।

Meri kalam ke tir tabhi chubhte he,
Jab aankho me aansoo thamte he,
Na girte he na sambhalte he,
Bas yuhi chupse rahte he..

Comments